Monday, April 11, 2011

आधी दुनियाः जहॉ ख्वाबा भी दबा दिये जाते है


-उपासना बेहार


ज बहुत दिनों बाद अचानक एक पुरानी सहेली से मेरी मुलाकात हुई। कालेज में हम साथ पढ़ते थे। हमारा एकदूसरे के घर बहुत आना जाना था। वह पढ़ने में बहुत होशियार थी। हमेशाप्रथम श्रेणी में पास होती थी। उसका जनरल नालेज भी बहुत ही अच्छा था। वो कॉलेज खत्म करने के बाद प्रतियोगिता परिक्षा देना चाहती थी। हमेशा इसी को लेकर बात करती थी कि कैसे इस मुकाम को पाऊ। उसके बडे बड़े ख्वाब थे। हमने अपना कालेज खत्म किया और मै आगे की पढ़ायी के लिए दूसरे शहर चली गई और उसके बाद आज करीब चार साल बाद उससे यू अचानक मेरी मुलाकात हो गई।

मुझे तो अपनी आँखों पर भरोसा ही नही हुआ कि वह रोशनी ही है। मै तो सोचती थी कि वह कही बड़े पद में नौकरी कर रही होगी। जोर जोर से हंसने वाली, बड़बड़ करने वाली रोशनी के मुह से आवाज भी नही निकल रही थी। उसने बताया कि कालेज खत्म करते ही उसके परिवार वालों ने उसकी शादी कर दी। उसके पति बैक में नौकरी करते है,उसकी 3 साल की एक बच्ची भी है। उसने मुझे अपने घर का पता दिया और कहा कि अभी वो बहुत जल्दी में है, घर जाकर बहुत सारे काम निपटाने है। तुम घर आना तो ढेर सारी बात करेगे। आना जरुर’, मुझेहैरानी की स्थिति में छोड़ कर वो चली गई। मैं सोच रही थी कि कहॉ खो गये उसके वो ख्वाब जो उसने शादी के पहले देखे थे । कहॉ दफन हो गई उसकी वो सारी महत्वकांक्षा। हमारी जितने समय भी बातचीत हुई वह मुझे अपने परिवार, पति और बच्चे के बारे में ही बताती रही पर अपने बारे में कुछ भी नही बताया, शायद बताने को अब कुछ रहा भी नही होगा।

मै सोचने लगी कि यह कितनी विड़बना है कि लड़कियॉ शादी से पहले जिस तरह की जिंदगी के लिए सपने पालती हैं, जिस मुकाम तक पहुचने का ख्वाब देखती है, शादी के बाद वो कही गूम हो जाते है। बहू, पत्नी, मां और अन्य रिश्तों में उलझ कर उसके ख्वाब दम तोड़ देते हैं और इसमें लड़की के परिवार वाले भी चाहे, अनचाहे रुकावट बन जाते हैं। शादी के बाद एक लड़की ना केवल अपना घर परिवार छोड़ कर जाती है बल्कि वह इसके साथ ओर भी बहुत कुछ छोड़ने को मजबूर होती है। उसका घर छोड़ना तो सभी को दिखायी देता है परन्तु वो सपने या जीवन को लेकर जो ख्वाब उसने पाले थे उसकी तरफ हमारा ध्यान कम ही जाता है।

वहीं लड़के जिन ख्वाबों को देखते है उसकी तामीर के लिए पूरा परिवार जुट जाता है। शादी के बाद भी वह अपने उन ख्वाबों को पूरा कर सकते हैं। महिला अपनी पति के तरक्की के लिए अपने ख्वाब, अपनी इच्छाओं एवं कैरियर तक को तिलांजली दे देती है और उसके तरक्की के रास्ते में रुकावट ना बन कर सहारा और ताकत बनती है। पर ये कल्पना करना बहुत ही मुश्किल है कि यही सब पति करेगा ? हमारे समाज में बहुत कम देखने को मिलता है कि पत्नी की कैरियर, उसके ख्वाब को पूरा करने में पति सहयोग करते हैं। ज्यादातर मामले में तो वे रुकावट डालने का ही काम करते है।

अगर कभी लड़की घर और परिवार दोनों को सभालते हुए ऊचे मुकाम पर पहुच जाती है तो पति का गर्व आड़े आ जाता है। सबसे पहले वही विरोध करता है। अगर वो किसी तरह से मान भी जाये तो उसे पति की तरफ से ज्यादा सहयोग या प्रोत्साहन नही मिलता है।पत्नि पति की सफलता पर हमेशा खुश होती है और उसकी सफलता को बड़े ख़ुशी के साथ बताती है लेकिन बमुश्किल ही किसी पति को गर्व से अपने पत्नि की सफलता का बखान करते हुए देखा जाता है।

व्यापक स्तर पर आज भी हमारा पितृसत्तात्मक समाज और परिवार महिलाओं को दोयम दर्जे का ही मानता है। जिस तरह पुरुष एक इंसान है इसी तरह महिला भी एक इंसान है ना की हाड-मांस का एक पुतला। यह बात ना तो पितृसत्तात्मक समाज और परिवार समझता है और ना ही समझना चाहता है।

आज भी ज्यादातर परिवारों में लड़कियों को केवल यही ख्वाब देखने की इजाजत होती है कि वे जब विवाह कर दूसरे घर जायें तो आदर्श बहू, आदर्श पत्नि और आदर्श मां कैसे बने।
समाज और परिवार को समझना ही पड़ेगा कि महिलाऐं भी पहले एक इंसान है उसके बाद ही कुछ ओर, उनके भी अपने ख्वाब है, वो भी दूर तक उड़ना चाहती हैं। अब वक्त आ गया है कि उन्हें भी पूरी तरह से अपने सपनों और महत्वकाक्षाओं को बुनने और उसे एक मुकाम तक पहुचाने के लिए पुरुषों के समान ही मौका, माहौल और प्रोत्साहन मिले।


No comments:

Post a Comment